DNA क्या है और यह कैसे काम करता है फुल जानकारी इन हिंदी?

DNA क्या है और यह कैसे काम करता है फुल जानकारी इन हिंदी?

DNA kya hai aur kaise kam karta hai
DNA kya hai aur kaise kam karta hai

DNA kya hai aur yah Kaise kam karta haiहेलो दोस्तों स्वागत है आपका आज के इस article में। दोस्तों आज हम आपको DNA के बारे में संपूर्ण जानकारी इस आर्टिकल के माध्यम से देने वाले हैं तो दोस्तों इस आर्टिकल को शुरु से लेकर अंत तक पूरा पढ़िए तभी आपको डी. एन. ए. (DNA) के बारे में आपको संपूर्ण जानकारी प्राप्त हो पाएगी।

चलिए दोस्तो बिना टाइम बेस्ट करते हुए । इस आर्टिकल की तरफ चलते हैं और आपको बताते हैं कि आखिरकार DNA क्या होता है? Friends क्या आप भी dna के बारे में जानना चाहते हैं तो हमारे इस article को ध्यान पूर्वक पढ़िए । इसमें आपको dna की पूरी जानकारी मिलेगी। दोस्तों हम अपने आर्टिकल पर हमेशा कुछ नया सिखाने की कोशिश करते हैं।

आज हमने जो आप को सिखाने का सोचा है वह dna क्या होता है इसकी पूरी जानकारी आप को देंगे । यदि आप मेडिकल एरिया में इंटरेस्ट रखते हैं तो आपको यह आर्टिकल अवश्य ही पसंद आने वाला है। इसके अलावा यदि कोई dna का नाम पहली बार सुन रहा है तो उन्हें भी इस आर्टिकल को पढ़ना ही चाहिए क्योंकि dna किसी चमत्कार से कम नहीं होता है।

दोस्तों आपने dna का नाम तो पहले भी कई बार सुना होगा tv पर या किसी सीरीज में या फिर किसी फिल्म में। डीएनए का नाम जरूर सुना होगा इसके अलावा dna के बारे में जीव विज्ञान में भी शायद आपने पढ़ा होगा। यदि आपने नहीं भी पढ़ा तो ही कोई दिक्कत नहीं है क्योंकि आज हम आपको बताएंगे dna की पूरी जानकारी।

But बहुत बार ऐसा होता है कि हम dna को अच्छे से समझ नहीं पाते हैं जिस वजह से हमारी जानकारी भी अधूरी सी रह जाती है यदि कोई विद्यार्थी dna को समझना चाहते हैं अगर कोई व्यक्ति dna की जानकारी लेना चाहता है तो इस आर्टिकल पर अच्छी तरह से ध्यान देकर पढ़ना होगा।

दोस्तों डीएनए हमारे साइंस की एक ऐसी खोज है जिसकी कारण मेडिकल साइंस प्रोग्रेस की कर रही है dna क्या है? dna का फुल फॉर्म क्या होता है? dna की खोज कब और किसने की? Dna कहां पर जाता है ? dna क्यों जरुरी होता है? आज इस आर्टिकल में हम आपको इन सभी सारे प्रश्नों के जवाब इस आर्टिकल के माध्यम से देने वाले हैं।

डीएनए क्या है?

Friends डीएनए की फुल फॉर्म DEOXYRIBO NUCLEIC ACID होती है । दोस्तों यह एक प्रकार का मोलिक्यूल होता है। दोस्तों आपको बता दे कि इसमें genetic code छुपे होते हैं । यह ठीक एक रेसिपी बुक की तरह ही काम करता है। बॉडी में किस तरह का प्रोटीन बनाना है यह इस पर ही डिपेंड होता है हर जीवित कोशिका में dna पाए जाता है।

प्रत्येक शरीर में पाए जाने वाले dna उस शरीर में मौजूद दूसरे डीएनए के एक समान (Same) होते हैं। आपने इस बात पर जरुर ध्यान दिया होगा कि हमारे माता पिता के कुछ लक्षण जैसे कि रंग, nose,eyes, height ect. यह हम से मेल खाते हैं उसका कारण भी dna ही होता है। इसके अलावा अगर माता पिता को कोई बीमारी हो तो यह बिलकुल संभव है कि वह उनके बच्चों में भी होती है या हो सकती है इसलिए डॉक्टर को पहले ही इसके बारे में सूचित कर देना सही होता है जरूरी नहीं कि आप के मां बाप के सभी गुण आपसे मिलते हों।

DNA की खोज किसने की?

दोस्तों आपको बता दूं कि ऐसा कहा जाता है कि dna की खोज जेम्सवास्तोन (JAMES WATSON) और FRANCIS CRICK ने (उन्नीस सौ पचास)1950 में की थी। But रियलिटी यही है कि सबसे पहले dna की खोज FRIEDRICH MIESCHER के द्वारा सन् 1860 में ही कर दी गई थी। उस समय इसका नाम nuclein रख दिया गया था But कुछ समय बाद dna की ज्यादा जानकारी न होने के कारण इसके महत्व को समझा नहीं गया था। dna की डबल हलेक्स संरचना को जेम्स waston And francic Crick ने बताया था इस search के लिए 1962 में उन्हें नोबेल पुरस्कार दिया गया था।

Construction of DNA (डी.एन.ए. की संरचना)

दोस्तों आपको बता दूं कि डी. एन. ए. की संरचना construction घुमावदार शीडी की तरह होती है। इसलिए इसे डबल हेलिक्स (double helix) का नाम दिया गया है जिस प्रकार dna का काम protein बनाना होता है। उसी प्रकार हर जीवित कोशिका में RNA होता है जो (protein) प्रोटीन और dna के बीच में संदेशक अर्थात मैसेंजर (messenger) का काम करता है डीएनए की construction न्यूक्लियोटाइड नाम के अणुओं से हुई है।

GET Link

हर न्यूक्लियोटाइड में एक खास ग्रुप, एक शुगर ग्रुप , और एक नाइट्रोजन base पाया जाता है नाइट्रोजन base के चार प्रकार एडनिन,थाईमिन,गुआनिन , साईटोसिन होते हैं। RNA में थाईमिन नहीं पाए जाते हैं उसके बदले इसमें यूरेसिल होते हैं।

दोस्तों को बता दें कि dna मॉलिक्यूल इतनी ज्यादा लंबे होते हैं । कि बे सरलता से किसी कोशिका में FIT में नहीं हो सकते हैं। कोशिका में बनने के लिए अर्थात फिट होने के लिए dna कसकर कुंडल होते हैं और गुणसूत्र का निर्माण करते हैं। हर एक गुणसूत्र में एक dna मॉलिक्यूल मौजूद होता है दोस्तों आपको बता दें कि इंसान में 23 दौड़े गुणसूत्र होते हैं जो कोशिका केंद्रक में पाए जाते हैं।

डीएनए कार्य कैसे करता है?

दोस्तों आपको होता दें कि बढाने को जब वक्त खोजा गया था उस वक्त इसका मुख्य कारण किसी को मालूम नहीं था शुरुआती समय में इसे ऐसे एसिड मॉलिक्यूलर समझा जाता था जो कि उसका केंद्रक में पाए जाता है। लेकिन medical experiment के बाद ये बात स्पष्ट हो गई कुछ dna के कड़ जरूर माता पिता से बच्चों तक पहुंच जाते हैं और यही अनुवांशिकता का कारण होता है । उसके बाद DNA पर बहुत से उपयोग किए गए और इसकी अच्छी तरह से खोज (search) की गई।

जिसमें यह बात पता चला की कोशिका में पाए जाने वाले चार मेट्रो मॉलिक्यूल जैसे कार्बोहाइड्रेट, lepid, protein, newclickacid में से सिर्फ न्यूक्लिक acid ही ऐसा केमिकल है जो कि एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में जाता है। इसकी वजह से ही बच्चे अपने माता पिता और अपने पूर्वजों से मेल खाते हैं।

तो दोस्तों अंत में, मैं यही कहना चाहूंगा कि यदि आपने आर्टिकल अच्छी तरह से पढ़ा होगा तो यह आर्टिकल आपको बहुत ही अच्छी तरह से समझ में आ गया होगा। दोस्तों आपको यह जानकारी जो इस आर्टिकल माध्यम से आपको दी गई है ये जानकारी आप को कैसी लगी। नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं । और इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ facebook ट्विटर whatsapp तथा सोशल मीडिया के अन्य प्लेटफार्म पर शेयर करें। तो दोस्तों मिलते हैं अगले आर्टिकल में किसी बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी के साथ, तब तक के लिए नमस्कार,

धन्यवाद

Leave a Comment